GST रिटर्न भरने में की देरी तो ई-वे बिल की सुविधा से हो जाओगे वंचित:

21 January 2019 | 11.32 AM क्या आपने जीएसटी पंजीकरण कराया है? क्या आप ई-वे बिल की सुविधा का लाभ लेते हैं? क्या आप नियमित समय पर अपना जीएसटी रिटर्न दाखिल करते हैं? यदि नहीं, तो संभव है कि सामानों की ढुलाई के लिए ई-वे बिल जारी करने की आपकी सुविधा छीन जाए. जीएसटी प्रणाली के लिए सूचना प्रौद्योगिकी ढांचा उपलब्ध कराने वाली कंपनी जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) एक ऐसी प्रणाली विकसित कर रही है जो कारोबारों के जीएसटी रिटर्न दाखिल नहीं करने पर नजर रखेगी. ऐसे में यदि कोई कारोबारी दो रिटर्न दौर में जीएसटी रिटर्



नॉन-जीएसटी व GST, सर्विसेज के लिए जल्द ही मिलेंगे अलग-अलग बिल!

27 December 2018 | 1.17 PM नई दिल्ली: अगर आपने ऐसी सेवाएं ली हैं, जिनमें से कुछ पर गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) सिस्टम में टैक्स बनता हो और कुछ पर नहीं तो इनके लिए जल्द ही आपको अलग-अलग बिल मिलने लगेंगे। जीएसटी काउंसिल ने हेल्थकेयर के अलावा उन सभी वर्गों के लिए यह सुविधा बढ़ाने का फैसला किया है, जिन्हें टैक्स से छूट दी गई है। काउंसिल ने हेल्थकेयर के लिए इस सिस्टम पर विचार किया था। काउंसिल में हुई चर्चा से वाकिफ एक सरकारी अधिकारी ने बताया, 'काउंसिल का मानना है कि यह सुविधा उन सभी वर्गों के



GST के तहत आने वाले टैक्सपेयर्स के गायब होने की जांच शुरू होगी:

12 December 2018 | 2.45 PM नई दिल्ली: टैक्स अधिकारी जल्द ही उन फर्मों के पास पहुंच सकते हैं जिन्होंने गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था लेकिन रिटर्न नहीं भरा है या टैक्स का भुगतान करने में नाकाम रही हैं। इनडायरेक्ट टैक्स अथॉरिटीज GST के तहत आने वाले टैक्सपेयर्स के गायब होने की जांच शुरू करने जा रहा है। इसमें ऐसी फर्मों के परिसरों का विजिट करना भी शामिल है। एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि बहुत से रजिस्टर्ड टैक्सपेयर्स के गायब होने को लेकर चिंता बढ़ रही है। इसके साथ ही बड



1 टेबल, 2 कुर्सी से GST बचाने का अनोखा जुगाड़! जानिए कैसे?

12 December 2018 | 1.07 PM मुंबई: क्या एक टेबल और दो कुर्सी की बदौलत आप वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) चुकाने से बच सकते हैं? राजस्व विभाग के मुताबिक, इस सवाल का जवाब है हां। विभाग का कहना है कि अगर किसी मिठाई, स्नैक्स या पेस्ट्रीज की दुकान में ग्राहकों के लिए वहीं बैठकर खाने की व्यवस्था हो, तो बिना इस तरह की व्यवस्था वाले दुकान की तुलना में उसे 13 फीसदी तक कम चुकाना पड़ सकता है। और यह होता है टैक्स आर्बिट्रेज की वजह से। इसलिए आपके आसपास के चौक-चौराहे की ऐसी दुकानों में अगर आने वाले दिनों में दो-च



कारोबारियों की जानी है क्वार्टली रिटर्न जीएसटीआर-4, जानिए इसका सम्पूर्ण प्रोसेस...

11 December 2018 | 12.12 PM नई दिल्ली: कारोबारी सालाना रिटर्न जीएसटीआर-9 के साथ जीएसटीआर-4 रिटर्न फाइल करने की तैयारी भी साथ में कर लें। कंपोजिशन स्कीम लेने वाले कारोबारियों की क्वार्टली रिटर्न जीएसटीआर-4 फाइल करनी होती है। अक्टूबर से दिसंबर तक की क्वार्टली रिटर्न जीएसटीआर-4 रिटर्न 18 जनवरी 2019 तक कारोबारियों को फाइल करनी है। 18 जनवरी तक करना है रिटर्न फाइल कारोबारी सालाना रिटर्न जीएसटीआर-9 फाइल करने में ही उलझे हुए हैं लेकिन इसके साथ कारोबारी क्वार्टरली रिटर्न जीएसटीआर-4 की भी तैयारी कर लें



GST के सालाना रिटर्न में बदलाव की मांग, जानिए इसके पीछे का कारण?

27 November 2018 | 12.20 PM नई दिल्ली: जीएसटी का पहला सालाना रिटर्न भरने की तैयारी कर रहे कारोबारियों और टैक्स प्रफेशनल्स ने आशंका जताई है कि मौजूदा फॉर्मैट में अगर बदलाव नहीं किया गया तो पूरे साल के रेकॉर्ड दोबारा बनाने पड़ सकते हैं। सालाना रिटर्न के तहत कई ऐसी जानकारियां मांगी गई हैं, जिनकी अबतक कभी जरूरत नहीं पड़ी और न ही किसी मंथली रिटर्न में ऐसा प्रावधान था। सालाना रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर है, लेकिन अभी तक कॉमन पोर्टल पर इसकी यूटिलिटी ऑनलाइन नहीं हुई है। हालांकि, जीएसटीएन ने इस